Fandom

Hindi Literature

जमुन-जल मेघ / बुद्धिनाथ मिश्र

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

लौट आए हैं जमुन-जल मेघ

सिन्धु की अंतर्कथा लेकर ।


यों फले हैं टूटकर जामुन

झुक गई आकाश की डाली

झाँकती हैं ओट से रह-रह

बिजलियाँ तिरछी नज़र वाली

ये उठे कंधे, झुके कुंतल

क्या करें काली घटा लेकर !


रतजगा लौटा कजरियों का

फिर बसी दुनिया मचानों की

चहचहाए हैं हरे पाखी

दीन आँखों में किसानों की

खंडहरों में यक्ष के साए

ढूंढ़ते किसको दिया लेकर ?


दूर तक फैली जुही की गंध

दिप उठी सतरंगिनी मन की

चंद भँवरे ही उदासे गीत

गा रहे झुलसे कमल-वन में

कौन आया द्वार तक मेरे

दर्भजल सींची ऋचा लेकर ?


दर्भजल=कुश से टपकता जल

Also on Fandom

Random Wiki