Fandom

Hindi Literature

जल रहा है / ओमप्रकाश चतुर्वेदी 'पराग'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: ओमप्रकाश चतुर्वेदी 'पराग'

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~


जल रहा है इस तरह पूरा बदन

आग का जैसे किया हो आचमन


आप ये जो जुल़्म मुझ पर ढा रहे

बाइरादा हैं कि यूँ ही आदतन


वासनाएँ यदि न प्रतिबंधित हुईं

बेच डालेंगी प्रणय के आचारण


तुम विरह की पीर को झेले बिना

प्रीति का कैसे करोगे आंकलन


मुस्कुरा कर माँगना कुंडल-कवच

आज भी प्रचलित वही कल का चलन


पाप के फल भोगते बीती उमर

पुण्य के भी तो मिलें दो-चार क्षण


उम्र भर आलोचना करते रहे

आज अर्पित कर रहे श्रद्धा-सुमन


इन्द्रियाँ स्वच्छन्द सब सुख भोगतीं

दर्द से आहत मगर अन्त:करण


भक्त से जो बन पड़ा करता रहा

आप भी तो कुछ करो अशरण-शरण

Also on Fandom

Random Wiki