Fandom

Hindi Literature

जसुदा तोहिं बाँधि क्यौं आयौ / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग बिलावल


जसुदा तोहिं बाँधि क्यौं आयौ ।
कसक्यौ नाहिं नैकु मन तेरौ, यहै कोखि कौ जायौ ॥
सिव-बिरंचि महिमा नहिं जानत, सो गाइनि सँग धायौ ।
तातैं तू पहचानति नाहीं, कौन पुण्य तैं पायौ ॥
कहा भयौ जो घरकैं लरिका, चोरी माखन खायौ ?
इतनी कहि उकसारत बाहैं, रोष सहित बल धायौ ॥
अपनैं कर सब बंधन छोरे, प्रेम सहित उर लायौ ।
सूर सुबचन मनोहर कहि-कहि अनुज-सूल बिसरायौ ॥

भावार्थ :-- (श्रीबलराम जी कहते हैं-) `यशोदा जी! तुमसे (कन्हाई) बाँधा कैसे गया ? तुम्हारे चित्त में तनिक भी पीड़ा नहीं हुई ? यह तुम्हारी इसी कोख से तो उत्पन्न हुआ है । जिसका माहात्म्य शंकर और ब्रह्मा जी भी नहीं जानते , (वही तुम्हारे प्रेमवश) यहाँ गायों के साथ दौड़ता है, इसलिये तुम इसे पहचानती नहीं हो, पता नहीं किस पुण्य से तुमने इसे पाया है । हुआ क्या जो घर के लड़के ने चोरी से मक्खन खा लिया ?' इतनी बात कहकर अपनी बाँहें उभारते हुए बलराम क्रोधपूर्वक दोढ़ पड़े । अपने हाथों उन्होंने सब बन्धन खोल दिये और प्रेम से (छोटे भाई को) हृदय से लगा लिया । सूरदास जी कहते हैं कि सुन्दर मनोहर बातें कह-कहकर अपने छोटे भाई की पीड़ा उन्होंने भुलवा दी ।

Also on Fandom

Random Wiki