Fandom

Hindi Literature

जसुमति कान्हहि यहै सिखावति / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग रामकली


जसुमति कान्हहि यहै सिखावति ।
सुनहु स्याम, अब बड़े भए तुम, कहि स्तन-पान छुड़ावति ॥
ब्रज-लरिका तोहि पीवत देखत, लाज नहिं आवति ।
जैहैं बिगरि दाँत ये आछे, तातैं कहि समुझावति ॥
अजहुँ छाँड़ि कह्यौ करि मेरौ, ऐसी बात न भावति ।
सूर स्याम यह सुनि मुसुक्याने, अंचल मुखहि लुकावत ॥

भावार्थ :-- श्रीयशोदा जी कन्हाई को यही सिखला रही हैं कि `कन्हाई, सुनो! अब तुम बड़े हो गये।' यों कहकर उनका स्तन पीना छुड़ाती हैं । (वे कहती हैं-)व्रज के बालक तुम्हें स्तन पीते देखकर हँसते हैं, तुम्हें लज्जा नहीं आती ? तुम्हारे ये अच्छे सुन्दर दाँत बिगड़ जायँगे, इससे तुम्हें बताकर समझा रही हूँ । अब भी तुम (यह स्वभाव)छोड़ दो, मेरा कहना मानो; ऐसी बात (हठ) अच्छी नहीं लगती । सूरदास जी कहते हैं कि यह सुनकर श्यामसुन्दर माता के अंचल में (दूध पीने के लिये) मुख छिपाते हुए मुसकरा पड़े ।

Also on Fandom

Random Wiki