Fandom

Hindi Literature

जसोदा, तेरौ चिरजीवहु गोपाल / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग धनाश्री

जसोदा, तेरौ चिरजीवहु गोपाल ।
बेगि बढ़ै बल सहित बिरध लट, महरि मनोहर बाल ॥
उपजि परयौ सिसु कर्म-पुन्य-फल, समुद-सीप ज्यौं लाल ।
सब गोकुल कौ प्रान-जीवन-धन, बैरिन कौ उर-साल ॥
सूर कितौ सुख पावत लोचन, निरखत घुटुरुनि चाल ।
झारत रज लागे मेरी अँखियनि रोग-दोष-जंजाल ॥

भावार्थ :-- यशोदा जी! तुम्हारा गोपाल चिरजीवी हो । व्रजरानी ! तुम्हारा यह मनोहर बालक बलराम के साथ शीघ्र बड़ा हो और दीर्घ बुढ़ापे तक रहे । पुण्य कर्मों के फल से यह शिशु इस प्रकार उत्पन्न हुआ है मानो समुद्र की सीप में ( मोती के बदले अकस्मात्) लाल उत्पन्न हो जाय । समस्त गोकुल का यह प्राण है, जीवन-धन है और शत्रुओं के हृदय का कण्टक (उन्हें पीड़ित करने वाला) है । सूरदास जी कहते हैं--इसका घुटनों चलना देखकर नेत्र कितना असीम आनन्द प्राप्त करते हैं । गोपि का यह आशीर्वाद देकर मोहन के शरीर में लगी) धूलि झाड़ती है । (और कहती हैं) `इस लाल के सब रोग, दोष एवं संकट मेरी इन आँखों को लग जायँ ।'

Also on Fandom

Random Wiki