Fandom

Hindi Literature

ज़माना आ गया / बलबीर सिंह 'रंग'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: बलबीर सिंह 'रंग'

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*

ज़माना आ गया रुसवाइयों तक तुम नहीं आये ।

जवानी आ गई तनहाइयों तक तुम नहीं आये ।।


धरा पर थम गई आँधी, गगन में काँपती बिजली,

घटाएँ आ गईं अमराइयों तक तुम नहीं आये ।


नदी के हाथ निर्झर की मिली पाती समंदर को,

सतह भी आ गई गहराइयों तक तुम नहीं आये ।


किसी को देखते ही आपका आभास होता है,

निगाहें आ गईं परछाइयों तक तुम नहीं आये ।


समापन हो गया नभ में सितारों की सभाओं का,

उदासी आ गई अंगड़ाइयों तक तुम नहीं आये ।


न शम्म'अ है न परवाने हैं ये क्या 'रंग' है महफ़िल,

कि मातम आ गया शहनाइयों तक तुम नहीं आये ।

Also on Fandom

Random Wiki