Fandom

Hindi Literature

ज़मीन पर फ़स्ले-गुल आई / शकील बँदायूनी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: शकील बँदायूनी

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*

ज़मीं पे फ़स्ल-ए-गुल आई फ़लक पर माहताब आया
सभी आये मगर कोई न शायान-ए-शबाब आया

मेरा ख़त पढ़ के बोले नामाबर से जा ख़ुदाहाफ़िज़
जवाब आया मेरी क़िस्मत से लेकिन लाजवाब आया

उजाले गर्मी-ए-रफ़्तार का ही साथ देते हैं
बसेरा था जहाँ अपना वहीं तक आफ़ताब आया

"शकील" अपने मज़ाक़-ए-दीद की तकमील क्या होती
इधर नज़रों ने हिम्मत की उधर रुख़ पर नक़ाब आया

Also on Fandom

Random Wiki