Fandom

Hindi Literature

ज़िन्दगी के चन्द लम्हे... / देवी नांगरानी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


ज़िंदगी से चन्द लम्हें मैं अब चुराकर लाई हूँ

मौत को ही मीत अपना अब बनाकर आई हूँ ।


शिद्दतें देखी थी पहले पर कभी ऐसी न थी

याद से उनकी मगर रिश्ता निभाकर आई हूँ ।


गर्दिशों की गर्द से होते नहीं हिम्मत-शिकन

ख़ून से तलवों पे मेंहदी मैं सजाकर आई हूँ ।


जूझना मुमकिन तो है इस जान-लेवा दौर में

ख़ुदकुशी करने से ख़ुद को बस बचाकर आई हूँ ।


सैकड़ों थे ज़िंदगी से यूँ हमें शिकवे-गिले

पर तेरे इसरार से सारे भुलाकर आई हूँ ।


याद के जुगनू अंधेरों को मिटा देंगे मगर

राह में तेरी दिया मैं इक जलाकर आई हूँ ।


जिस तराज़ू में था तोला, मुझ पे वो भारी पड़ा

मोल उसका मैं मगर सारा चुका कर आई हूँ ।


श्रद्धा और विश्वास के वो भाव मैं लाऊं कहाँ से

सजदे में सर को मैं अपने बस झुकाकर आई हूँ ।


गर्द है चेहरे पे देवी यूँ उदासी की जमी

जीते जी अपना ही मातम ख़ुद मनाकर आई हूँ ।

Also on Fandom

Random Wiki