Fandom

Hindi Literature

ज़ीस्त आज़ार हुई जाती है / अहमद नदीम क़ासमी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

ज़ीस्त आज़ार हुई जाती है ।
साँस तलवार हुई जाती है |

जिस्म बेकार हुआ जाता है,
रूह बेदार हुई जाती है |

कान से दिल में उतरती नहीं बात,
और गुफ़्तार हुई जाती है |

ढल के निकली है हक़ीक़त जब से,
कुछ पुर-असरार हुई जाती है |

अब तो हर ज़ख़्म की मुँहबन्द कली,
लब-ए-इज़हार हुई जाती है |

फूल ही फूल हैं हर सिम्त 'नदीम',
राह दुश्वार हुई जाती है |

Also on Fandom

Random Wiki