Fandom

Hindi Literature

जाड़े की धूप / पूर्णिमा वर्मन

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


अलसाई

इतराई

पेड़ों के पत्तों से

गिर-गिर के बिखरायी

किरनों का गुलदस्ता

जाड़े की धूप ।


अनमनी

गुनगुनी

नीले आकाश तले

धरती संग छुईमुई

सड़क-सड़क दूर तलक

जाड़े की धूप ।


सोने के

हिरनों-सी

सरपट चौकड़ी भरी

किसे पता कहाँ तलक

एकाकी सूना पथ

जाड़े की धूप ।


सरसों-सी

खिली-खिली

अनजाने रस्तों पर

खरहे-सी दौड़ पड़ी

क्वाँर का कुँआरापन

जाड़े की धूप ।


रौशनता

गतिमयता

चटकाती बढ़ी चली

यहाँ-वहाँ सभी कहाँ

पहियों की प्रतिद्वन्द्वी

जाड़े की धूप ।

Also on Fandom

Random Wiki