Fandom

Hindi Literature

जाने किस जीवन की सुधि ले / महादेवी वर्मा

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

जाने किस जीवन की सुधि ले

लहराती आती मधु-बयार!


रंजित कर ले यह शिथिल चरण, ले नव अशोक का अरुण राग,

मेरे मण्डन को आज मधुर, ला रजनीगन्धा का पराग;

यूथी की मीलित कलियों से

अलि, दे मेरी कबरी सँवार।


पाटल के सुरभित रंगों से रँग दे हिम-सा उज्जवल दुकूल,

गूँथ दे रशमा में अलि-गुंजन से पूरित झरते बकुल-फूल;

रजनी से अंजन माँग सजनि,

दे मेरे अलसित नयन सार !


तारक-लोचन से सींच सींच नभ करता रज को विरज आज,

बरसाता पथ में हरसिंगार केशर से चर्चित सुमन-लाज;

कंटकित रसालों पर उठता

है पागल पिक मुझको पुकार!

लहराती आती मधु-बयार !!

Also on Fandom

Random Wiki