Fandom

Hindi Literature

जे उट्ठ चल्लियों चाकरी, चाकरी वे माहिया / पंजाबी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































मोटा पाठ[[[कड़ी शीर्षक]

चित्र:शीर्षकमीडिया:उदाहरण.ogg Edit

]]
[[[कड़ी शीर्षक]

चित्र:शीर्षक[[मीडिया:पार्स नहीं कर पायें (लेक्सींग समस्या): उदाहरण.ogg --~~~~अप्रारूपित सामग्री यहाँ डालें ---- ]] Edit

]]== शीर्षक == साँचा:KKLokGeetBhaashaSoochi

जे उट्ठ चल्लियों चाकरी, चाकरी वे माहिया

सान्नूँ वी लै चल्लीं नाल वे

अख्खियाँ नूँ नींद क्यों न आई वे

तूँ करेंगा चाकरी, चाकरी वे माहिया

मैं कत्तांगी सोहणा सूत वे

अख्खियाँ नूँ नींद क्यों न आई वे

इक्क ट्का तेरी चाकरी, चाकरी वे माहिया

लख्ख टके दा मेरा सूत वे

अख्खियाँ नूँ नींद क्यों न आई वे


भावार्थ

--'यदि काम पर जाने के लिए तुम तैयार हो, काम पर जाने को प्रीतम ! तो मुझे भी अपने साथ ले चलो ।

अजी, मैं भी कहूँ, मुझे नींद क्यों नहीं आती ? तुम करोगे नौकरी, ओ मेरे प्रीतम ! और मैं कातूंगी सूत सुन्दर

मेरे प्रिय ! अजी, मैं भी सोचती हूँ, ये नींद क्यों नहीं आती ? एक रुपए की नौकरी तुम्हारी, ओ प्रीतम ! मेरा

सूत होगा एक लाख का । अजी, मैं भी कहूँ मुझे आख़िर नींद क्यों नहीं आती ।'

Also on Fandom

Random Wiki