Fandom

Hindi Literature

जौ तुम सुनहु जसोदा गोरी / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग गौरी


जौ तुम सुनहु जसोदा गोरी ।
नंदँ-नंदन मेरे मंदिर मैं आजु करन गए चोरी ॥
हौं भइ जाइ अचानक ठाढ़ी, कह्यौ भवन मैं को री ।
रहे छपाइ, सकुचि, रंचक ह्वै, भइ सहज मति भोरी ॥
मोहिं भयौ माखन-पछितावौ, रीती देखि कमोरी ।
जब गहिं बाँह कुलाहल कीनी, तब गहि चरन निहोरी ॥
लागे लैन नैन जल भरि-भरि, तब मैं कानि न तोरी ॥
सूरदास-प्रभु देत दिनहिं-दिन ऐसियै लरिक-सलोरी ॥

भावार्थ :-- (वह गोपी नंद-भवन में आकर कहती है- )`सखी यशोदा जी ! यदि तुम सुनो तो एक बात बताऊँ । आज मेरे मकान में चोरी करने नन्दनन्दन गये थे । इतने में मैं (बाहर से लौटकर) वहाँ अचानक जाकर खड़ी हो गयी और पूछा -`घर में कौन है?'तब तो इनकी बुद्धि स्वभावतः भोली हो गयी (कोई उपाय इन्हें सूझा नहीं), सिकुड़कर तनिक-से बनकर छिपे रह गये (अपने अंग सिकोड़कर दुबक गये ) । अपनी मटकी खाली देखकर मुझे मक्खन जाने का पश्चाताप (दुःख) हुआ; (इससे ) जब इनकी बाँह पकड़कर मैंने कोलाहल किया, तब मेरे पैर पकड़कर अनुनय-विनय करने लगे । बार-बार नेत्रों में आँसू भर लेने लगे (रोने लगे) । तब मैंने संकोच तोड़ा नहीं (चुपचाप चले जाने दिया) सूरदास जी कहते हैं कि मेरे स्वामी दिनों-दिन लड़कपन को ऐसी ही प्रिय लगने वाली क्रीड़ा का आनन्द दे रहे हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki