Fandom

Hindi Literature

झरना - कसौटी / जयशंकर प्रसाद

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


तिरस्कार कालिमा कलित हैं,

अविश्वास-सी पिच्छल हैं।

कौन कसौटी पर ठहरेगा?

किसमें प्रचुर मनोबल है?


तपा चुके हो विरह वह्नि में,

काम जँचाने का न इसे।

शुद्ध सुवर्ण हृदय है प्रियतम!

तुमको शंका केवल है॥


बिका हुआ है जीवन धन यह

कब का तेरे हाथो मे।

बिना मूल्य का , हैं अमूल्य यह

ले लो इसे, नही छल हैं।


कृपा कटाक्ष अलम् हैं केवल,

कोरदार या कोमल हो।

कट जावे तो सुख पावेगा,

बार-बार यह विह्वल हैं॥


सौदा कर लो बात मान लो,

फिर पीछे पछता लेना।

खरी वस्तु हैं, कहीं न इसमें

बाल बराबर भी बल हैं ॥

Also on Fandom

Random Wiki