Fandom

Hindi Literature

ठंड लग रही है मुझे / ओसिप मंदेलश्ताम

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































साँचा:KKAnooditRachna

ठंड लग

रही है मुझे


वसन्त पारदर्शी है

पित्रोपोल पहन रहा है

रोंएदार हरे वस्त्र

छत्रिक-माछ-सी फिसल रही हैं

निवा नदी की लहरें


धीरे-धीरे

घेर रही हैं मेरे मन को


नदी के उस तट पर

प्रकाश छलकाती दौड़ रही हैं मोटरें

जैसे उड़ रहे हों

लौह-गुबरैले और पतंगे


आकाश में

स्वर्ण-बकसुए से

झिलमिला रहे हैं सितारे


पर कैसे भी वे

ख़त्म नहीं कर पाएंगे

मरकत से भारी

इस मरकती समुद्री जल को


पित्रोपोल=लेनिनग्राद, पितेरर्बुर्ग या पीटर्सबर्ग नगर का एक साहित्यिक नाम ।


(रचनाकाल : 1916)

Also on Fandom

Random Wiki