Fandom

Hindi Literature

तनक दै री माइ, माखन तनक दै री माइ / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग आसावरी

तनक दै री माइ, माखन तनक दै री माइ ।
तनक कर पर तनक रोटी, मागत चरन चलाइ ॥
कनक-भू पर रतन रेखा, नेति पकर्‌यौ धाइ ।
कँप्यौ गिरि अरु सेष संक्यौ, उदधि चल्यौ अकुलाइ ।
तनक मुख की तनक बतियाँ, बोलत हैं तुतराइ ।
जसोमति के प्रान-जीवन, उर लियौ लपटाइ ॥
मेरे मन कौ तनक मोहन, लागु मोहि बलाइ ।
स्याम सुंदर नँद-कुँवर पर, सूर बलि-बलि जाइ ॥

भावार्थ :-- (श्यामसुंदर) अपने चरणों को चलाते - नाचते हुए छोटे-से हाथ पर छोटी सी रोटी माँगते हैं - (और कहते हैं) मैया ! थोड़ा-सा माखन दे!' स्वर्णभूमि पर रत्न (नीलम) की रेखा जैसे खिंच गयी हो, इस प्रकार वे दौड़े और मथानी की रस्सी पकड़ ली । इससे (कहीं फिर समुद्र-मन्थन न करें, यह सोच कर) मन्दराचल काँपने लगा, शेषनाग शंकित हो उठे और समुद्र व्याकुल हो गया । छोटे-से मुख से थोड़े-थोड़े शब्द तुतलाते हुए बोलते हैं । माता यशोदा के ये प्राण हैं, जीवन हैं, मैया ने इन्हें हृदय से लिपटा लिया । (माता ने बलैया लेते हुए कहा-) `मेरे चित्त को मोहित करने वाले मेरे नन्हें लाल ! तुम्हारी सब आपत्ति-विपत्ति मुझे लग जाय ।' सूरदास तो इस नन्द-नन्दन श्यामसुन्दर पर बार-बार न्योछावर है ।

Also on Fandom

Random Wiki