Fandom

Hindi Literature

तभी तुम्हें लिक्खी है पाती / भावना कुँअर

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

अब ये दुनिया नहीं है भाती

तभी तुम्हें लिक्खी है पाती।


खून-खराबा है गलियों में,

छिपे हुए हैं बम कलियों में,

है फटती धरती की छाती,

तभी तुम्हें लिक्खी है पाती।


उज़ड़ गये हैं घर व आँगन,

छूट गये अपनों के दामन,

यही देख के मैं घबराती,

तभी तुम्हें लिक्खी है पाती।


है बड़ी बेचैनी मन में,

नफ़रत फैली है जन-जन में,

नींद भी अब तो नहीं है आती,

तभी तुम्हें लिक्खी है पाती।

Also on Fandom

Random Wiki