Fandom

Hindi Literature

तुम जागौ मेरे लाड़िले, गोकुल -सुखदाई / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग बिलावल

तुम जागौ मेरे लाड़िले, गोकुल -सुखदाई ।
कहति जननि आनन्द सौं, उठौ कुँवर कन्हाई ॥
तुम कौं माखन-दूध-दधि, मिस्री हौं ल्याई ।
उठि कै भोजन कीजिऐ, पकवान-मिठाई ॥
सखा द्वार परभात सौं, सब टेर लगाई ।
वन कौं चलिए साँवरे, दयौ तरनि दिखाई ॥
सुनत बचन अति मोद सौं जागे जदुराई ।
भोजन करि बन कौं चले, सूरज बलि जाई ॥

माता आनन्दपूर्वक कह रही है--मेरे लाड़िले, गोकुल को सुख देने वाले लाल तुम जागो! कुँवर कन्हाई ! उठो, तुम्हारे लिये मैं मक्खन, दूध दही और मिश्री ले आयी हूँ । उठकर पकवान और मिटाइयों का भोजन करो । सबेरे से ही सब सखा द्वार पर खड़े पुकार रहे हैं कि `श्यामसुन्दर! देखो , सूर्य दिखायी देने लगा अब वन को चलो ।' (माता की) यह बात सुनकर श्रीयदुनाथ अत्यन्त आनन्द से जागे और भोजन करके वन को चल पड़े । सूरदास इन पर बलिहारी जाता है ।

Also on Fandom

Random Wiki