Fandom

Hindi Literature

तुम मत घबराना / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

दुख के बादल आएँगे,

छाएँगे, बरसेंगे ।

यह जीवन की रीत है बन्धु


तुम मत घबराना ।

सन्त, महात्मा, राजा, रानी

सबका दौर रहा।

दो पल बीते फिर धरती पर

कहीं न ठौर रहा ।

बिना पंख जो उड़े गगन में

मुँह की खाएँगे ।

आसमान क्या धरती पर भी

ठौर न पाएँगे ।

धूप-छाँव के जीवन में

सदा सुखी है कोई ?

कौन मरण से बच पाया है

हमको बतलाना ।

जो गर्दन पर छुरी चलाकर

माया जोड़ रहे

अपनी किस्मत के घट को वे

खुद ही फोड़ रहे ।

बिस्तर पर वे नोट बिछाकर

क्या पाएँगे चैन

कौन लूट ले या छीन ले

इसमें कटती रैन ।

केवल दो रोटी की भूख

फिर भी हैं हलकान

भूखों तक का कौर छीने

दिखलाते हैं शान

Also on Fandom

Random Wiki