Fandom

Hindi Literature

तुम सामने आते हो, पहलू बदल बदल कर / सुरेश सलिल

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


तुम सामने आते हो पहलू बदल बदल कर

बिजली सी गिराते हो पहलू बदल बदल कर


इस आइने में देखूँ - उस आइने में देखूँ

कुछ राज़ छिपाते हो पहलू बदल बदल कर


पहलू बदल-बदल कर इक़रार-ए-इश्क़ कैसा

उंगली पे' नचाते हो, पहलू बदल बदल कर


तुमको ही रिझाने को, ये सारी ग़ज़लगोई

हर शे'र में आते हो, पहलू बदल बदल कर


इर्शाद-ओ-मुक़र्रर की उम्मीद कौन बांधे

जब शमअ हटाते हो, पहलू बदल बदल कर


(रचनाकाल : 2003)

Also on Fandom

Random Wiki