Fandom

Hindi Literature

तू फूल की रस्सी न बुन/ कुँअर बेचैन

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: कुँवर बेचैन

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*


आवाज़ को / आवाज़ दे

ये मौन-व्रत /अच्छा नहीं।


जलते हैं घर

जलते नगर

जलने लगे / चिड़यों के पर,

तू ख्वाब में

डूबा रहा

तेरी नज़र / थी बेख़बर।


आँख़ों के ख़त / पर नींद का

यह दस्तख़त / अच्छा नहीं।


जिस पेड़ को

खाते हैं घुन

उस पेड़ की / आवाज़ सुन,

उसके तले

बैठे हुए

तू फूल की / रस्सी न बुन।


जर्जर तनों / में रीढ का

यह अल्पमत / अच्छा नहीं।


है भाल यह

ऊँचा गगन

हैं स्वेदकन / नक्षत्र-गन,

दीपक जला

उस द्वार पर

जिस द्वार पर / है तम सघन।


अब स्वर्ण की / दहलीज़ पर

यह शिर विनत / अच्छा नहीं


-- यह गीत Dr.Bhawna Kunwar द्वारा कविता कोश में डाला गया है।

Also on Fandom

Random Wiki