Fandom

Hindi Literature

था मुस्तेआर हुस्न से उसके जो नूर था / मीर तक़ी 'मीर'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

था मुस्तेआर हुस्न से उसके जो नूर था

खुर्शीद में भी उस ही का ज़र्रा-ऐ-ज़हूर था


पहुँचा जो आप को तो मैं पहुँचा खुदा के तईं

मालूम अब हुआ कि बहोत मैं भी दूर था


कल पाँव इक कासा-ऐ-सर पर जो आ गया

यक-सर वो इस्ताख्वान शिकस्तों में चूर था


कहने लगा के देख के चल राह बे-ख़बर

मैं भी कभी किसी का सर-ऐ-पुर-गुरूर था


था वो तो रश्क-ऐ-हूर-ऐ-बहिश्ती हमीं में 'मीर'

समझे न हम तो फ़हम का अपने कसूर था

Also on Fandom

Random Wiki