Fandom

Hindi Literature

दर्शन / जयशंकर प्रसाद

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

जीवन-नाव अँधेरे अन्धड़ मे चली।

अद्भूत परिवर्तन यह कैसा हो चला।

निर्मल जल पर सुधा भरी है चन्द्रिका,

बिछल पड़ी, मेरी छोटी-सी नाव भी।

वंशी की स्वर लहरी नीरव व्योम में-

गूँज रही हैं, परिमल पूरित पवन भी-

खेल रहा हैं जल लहरी के संग में।

प्रकृति भरा प्याला दिखलाकर व्योम में-

बहकाती हैं, और नदी उस ओर ही-

बहती हैं। खिड़की उस ऊँचे महल की-

दूर दिखाई देती हैं, अब क्यों रूके-

नौका मेरी, द्विगुणित गति से चल पड़ी।

किन्तु किसी के मुख की छवि-किरणें घनी,

रजत रज्जु-सी लिपटी नौका से वहीं,

बीच नदी में नाव किनारे लग गई।

उस मोहन मुख का दर्शन होने लगा।

Also on Fandom

Random Wiki