Fandom

Hindi Literature

दिल गया रौनके हयात गई / जिगर मुरादाबादी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: जिगर मुरादाबादी

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*

दिल गया रौनके हयात गई ।

ग़म गया सारी कायनात गई ।।


दिल धड़कते ही फिर गई वो नज़र,

लब तक आई न थी के बात गई ।


उनके बहलाए भी न बहला दिल,

गएगां सइये-इल्तफ़ात गई ।


मर्गे आशिक़ तो कुछ नहीं लेकिन,

इक मसीहा-नफ़स की बात गई ।


हाए सरशरायां जवानी की,

आँख झपकी ही थी के रात गई ।


नहीं मिलता मिज़ाजे-दिल हमसे,

ग़ालिबन दूर तक ये बात गई ।


क़ैदे-हस्ती से कब निजात 'जिगर'

मौत आई अगर हयात गई ।

Also on Fandom

Random Wiki