Fandom

Hindi Literature

देख्यौ नँद-नंदन, अतिहिं परम सुख पायौ / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग सारंग

देख्यौ नँद-नंदन, अतिहिं परम सुख पायौ ।
जहँ-जहँ गाइ चरति, ग्वालनि सँग, तहँ-तहँ आपुन धायौ ॥
बलदाऊ मोकौं जनि छाँड़ौ, संग तुम्हारैं ऐहौं ।
कैसैहुँ आजु जसोदा छाँड़यौ, काल्हि न आवत पैहौं ॥
सोवत मोकौं टेरि लेहुगे, बाबा नंद दुहाई ।
सूर स्याम बिनती करि बल सौं, सखनि समेत सुनाई ॥

भावार्थ :--श्री नन्दनन्दन ने जब वृन्दावन देखा तो उनको बहुत बड़ा आनन्द प्राप्त हुआ । जहाँ-जहाँ गायें चरती हुई जाती थीं, वहाँ-वहाँ गोपबालकों के साथ स्वयं भी दौड़ते रहे । (बड़े भाई से बोले -) `दाऊ दादा! मुझे छोड़कर मत आया करो, मैं तुम्हारे साथ ही आऊँगा । आज तो किसी प्रकार मैया यशोदा ने छोड़ दिया है, (अकेले) कल नहीं आ पाऊँगा । नन्दबाबा की शपथ, मैं सोता रहूँ तो मुझे पुकार लेना ।' सूरदास जी कहते हैं कि इस प्रकार श्यामसुन्दर ने सखाओं सहित बलरामजी से प्रार्थना की ।

Also on Fandom

Random Wiki