Fandom

Hindi Literature

दो-चार / पदुमलाल पन्नालाल बख्शी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

भाव रस अलंकार से हीन, अर्थ-गौरव से शून्य असार ।

नाम ही है वस जिनमें, पद्य ये हैं ऐसे दो-चार ।

बिल्व पत्रों का शुष्क समूह, कब किसी से आया है काम,

उन्हीं से होता जग को तोष तुम्हारा हो यदि उन पर नाम ।

लिख दिया है बस अपना नाम और क्या है लिखने की बात ?

नाम ही एकमात्र है सत्य और है नाथ ! वही पर्याप्त

पड़ेगी जब तक जग की दृष्टि, रहेंगे तब तक क्या ये स्पष्ट ?

किन्तु तुम तो मत जाना भूल, नाम का गौरव हो मत नष्ट ।


(‘प्रेमा’, दिसम्बर 1930 में प्रकाशित)

Also on Fandom

Random Wiki