Fandom

Hindi Literature

दौलत और नींद / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

दौलत के नशे में नींद नहीं आती ।

फकी़र को लुटने का डर नहीं होता ॥

फुटपाथ पर हमको सोने दे हुज़ूर ।

मुफ़लिसों का कहीं भी घर नहीं होता ।।

उपवन मत जलाओ कुछ शूल के लिए ।

यों कोई शहर बेहतर नहीं होता ।।

काबुल में खिलें या काशी में मह़कें ।

फूल के हाथ में खंज़र नहीं होता ॥

नाग पालकर वे चाहते रहे अमन ।

ज़िन्दगी का इलाज ज़हर नहीं होता ॥

हो चुके हैं लोग अब इतने बेहया ।

चीख- पुकार का भी असर नहीं होता ॥

Also on Fandom

Random Wiki