Fandom

Hindi Literature

धनि गोबिंद जो गोकुल आए / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग बिलावल

धनि गोबिंद जो गोकुल आए ।
धनि-धनि नंद , धन्य निसि-बासर, धनि जसुमति जिन श्रीधर जाए ॥
धनि-धनि बाल-केलि जमुना -तट, धनि बन सुरभी-बृंद चराए ।
धनि यह समौ, धन्य ब्रज-बासी, धनि-धनि बेनु मधुर धुनि गाए ॥
धनि-धनि अनख, उरहनौ धनि-धनि, धनिमाखन, धनि मोहन खाए ।
धन्य सूर ऊखल तरु गोबिंद हमहि हेतु धनि भुजा बँधाए ॥

भावार्थ :-- (कुबेर-पुत्र स्तुति करते हैं-) `गोविंद धन्य हैं, जो गोकुल में प्रकट हुए । श्रीनन्द जी परम धन्य हैं, (श्याम की लीला के) ये दिन और रात्रियाँ धन्य हैं तथा माता यशोदा धन्य हैं जिन्होंने मोहन को जन्म दिया । बाल-क्रीड़ा जहाँ होती है, वह यमुना-तट धन्य-धन्य है और यह वृन्दावन धन्य है जहाँ गायों का झुण्ड चराते हैं । यह समय धन्य है, व्रजवासी धन्य हैं; जिससे मधुर ध्वनि में गान करते हैं, वह वंशी अत्यन्त धन्य है, परमधन्य है । गोपियों का क्रोध करना, उलाहना देना भी धन्य-धन्य है, मक्खन धन्य है और मोहन का उसे खाना भी धन्य है । सूरदास जी कहते हैं--यह ऊखल धन्य है, यमलार्जुन वृक्ष धन्य हैं और वे गोविंद धन्यातिधन्य हैं, जिन्होंने हमारे लिये अपने हाथ बँधवाये तथा उनके बाँधे जाने वाले) हाथ भी धन्य हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki