Fandom

Hindi Literature

धीरे-धीरे उत्तर क्षितिज से / महादेवी वर्मा

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


धीरे-धीरे उत्तर क्षितिज से

आ वसन्त-रजनी!


तारकमय तव वेणी बन्धन

शीशफूल कर शशि का नूतन

रश्मि वलय सित घन-अवगुण्ठन;

मुक्ताहल अभिराम बिछा दे

चितवन से अपनी।

पुलकती आ वसन्त-रजनी!


मर्मर की सुमधुर नूपुर-ध्वनि।

अलि गुंजित पद्मों की किंकिणि

भर पदगति में अलस तरंगिणि;

तरल रजत की धार बहा दे

मृदु स्मित से सजनी!

विहँसती आ वसन्त-रजनी!


पुलकित स्वप्नों की रोमावलि

कर में हो स्मृतियों की अंजलि

मलयानिल का चल दुकूल अलि!

घिर छाया-सी श्याम, विश्व को

आ अभिसार बनी!

सकुचती आ वसन्त-रजनी!


सिहर-सिहर उठता सरिता-उर

खुल-खुल पड़ते सुमन सुधा-भर

मचल-मचल आते पद फिर-फिर;

सुन प्रिय की पदचाप हो गई

पुलकित यह अवनी।

सिहरती आ वसन्त-रजनी!

Also on Fandom

Random Wiki