Fandom

Hindi Literature

नंद-घरनि आनँद भरी, सुत स्याम खिलावै / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


राग बिलावल

नंद-घरनि आनँद भरी, सुत स्याम खिलावै ।
कबहिं घुटुरुवनि चलहिंगे, कहि बिधिहिं मनावै ॥
कबहिं दँतुलि द्वै दूध की, देखौं इन नैननि ।
कबहिं कमल-मुख बोलिहैं, सुनिहौं उन बैननि ॥
चूमति कर-पग-अधर-भ्रू, लटकति लट चूमति ।
कहा बरनि सूरज कहै, कहँ पावै सो मति ॥


आनन्दमग्न श्रीनन्दरानी अपने पुत्र श्यामसुन्दर को खेला रही हैं । वे ब्रह्मा से मनाती हैं-`मेरा लाल कब घुटनों चलने लगेगा । कब अपनी इन आँखों से मैं इसके दूध की दो दँतुलियाँ (छोटे दाँत) देखूँगी । कब यह कमल-मुख बोलने लगेगा और मैं उन शब्दों को सुनूँगी ।'( प्रेम-विभोर होकर वे पुत्र के ) हाथ, चरण, अधर तथा भौहों का चुम्बन करती हैं एवं लटकती हुई अलकों को चूम लेती हैं । सूरदास ऐसी बुद्धि कहाँ से पावे, कैसे इस शोभा का वर्णन करके बतावे ।

Also on Fandom

Random Wiki