Fandom

Hindi Literature

नंद-धाम खेलत हरि डोलत / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग बिलावल


नंद-धाम खेलत हरि डोलत ।
जसुमति करति रसोई भीतर, आपुन किलकत बोलत ॥
टेरि उठी जसुमति मोहन कौं, आवहु काहैं न धाइ ।
बैन सुनत माता पहिचानी, चले घुटुरुवनि पाइ ॥
लै उठाइ अंचल गहि पोंछै, धूरि भरी सब देह ।
सूरज प्रभु जसुमति रज झारति,कहाँ भरी यह खेह ॥

भावार्थ :-- हरि नन्दभवन में खेलते फिर रहे हैं । यशोदा जी घरके भीतर रसोई बना रही हैं, ये किलकारी मारते कुछ बोल रहे हैं । इसी समय माता यशोदा ने मोहन को पुकारा - `लाल ! तू दौड़कर यहाँ क्यों नहीं आता ।' शब्द सुनकर पहिचान लिया कि मैया बुला रही है, इससे घुटनों के बल चरण घसीटते चल पड़े । मैया ने गोद में उठा लिया, धूलि भरा हुआ पूरा शरीर अञ्चल से पोंछने लगीं । सूरदास जी कहते हैं - मेरे स्वामी के शरीर में लगी धूलि झाड़ती हुई यशोदा जी कहती हैं- `इतनी धूलि तुमने कहाँ से लपेट ली!'

Also on Fandom

Random Wiki