FANDOM

१२,२६२ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng
































CHANDER

मुखपृष्ठ: पद्मावत / मलिक मोहम्मद जायसी

फिरि फिरि रोव, कोइ नहीं डोला । आधी राति बिहंगम बोला ॥
"तू फिरि फिरि दाहै सब पाँखी । केहि दुख रैनि न लावसि आँखी"
नागमती कारन कै रोई । का सोवै जो कंत-बिछोई ॥
मनचित हुँते न उतरै मोरे । नैन क जल चुकि रहा न मोरे ॥
कोइ न जाइ ओहि सिंगलदीपा । जेहि सेवाति कहँ नैना सीपा ॥
जोगी होइ निसरा सो नाहू । तब हुँत कहा सँदेस न काहू ॥
निति पूछौं सब जोगी जंगम । कोइ न कहै निज बात, बिहंगम !॥

चारिउ चक्र उजार भए, कोइ न सँदेसा टेक ।
कहौं बिरह दुख आपन, बैठि सुनहु दँड एक ॥1॥

तासौं दुख कहिए, हो बीरा । जेहिं सुनि कै लागै पर पीरा ॥
को होइ भिउ अँगवे पर -दाहा । को सिंघल पहुँचावै चाहा ?॥
जहँवाँ कंत गए होइ जोगी । हौं किंगरी भइ झूरि बियोगी ॥
वै सिंगी पूरी, गुरु भेंटा । हौं भइ भसम, न आइ समेटा ॥
कथा जो कहै आइ ओहि केरी । पाँवर होउँ, जनम भरि चेरी ॥
ओहि के गुन सँवरत भइ माला । अबहुँ न बहुरा उडिगा छाला ॥
बिरह गुरू, खप्पर कै हीया । पवन अधार रहै सो जीया ॥

हाड भए सब किंगी, नसैं भई सब ताँति ।
रोवँ रोवँ तें धुनि उठैं, कहौं बिथा केहि भाँति ? ॥2॥

पदमावति सौं कहेहु, बिहंगम । कंत लोभाइ रही करि संगम ॥
तू घर घरनि भई पिउ-हरता । मोहि तन दीन्हेसि जप औ बरता ॥
रावट कनक सो तोकहँ भएऊ । रावट लंक मोहिं कै गएऊ ॥
तोहि चैन सुख मिलै सरीरा । मो कहँ हिये दुंद दुख पूरा ॥
हमहुँ बियाही संग ओहि पीऊ । आपुहि पाइ जानु पर-जीऊ ॥
अबहुँ मया करु, करु जिउ फेरा । मोहिं जियाउ कंत देइ मेरा ॥
मोहिं भोग सौं काज न बारी । सौंह दीठि कै चाहनहरी ॥

सवति न होहि तू बैरिनि, मोर कंत जेहहि हाथ ।
आनि मिलाव एक बेर, तोर पाँय मोर माथ ॥3॥

रतनसेन कै माइ सुरसती । गोपीचंद जसि मैनावती ॥
आँधरि बूढि होइ दुख रोवा । जीवन रतन कहाँ दहुँ खोवा ॥
जीवन अहा लीन्ह सो काढी । भइ विनु टेक, करै को ठाढी ?॥
बिनु जीवन भइ आस पराई । कहाँ सो पूत खंभ होइ आई ॥
नैन दीठ नहिं दिया बराहीं । घर अँधियार पूत जौ नाहीं ॥
को रे चलै सरवन के ठाँऊ । टेक देह औ टेकै पाऊँ ॥
तुम सरवन होइ काँवरि सजा । डार लाइ अब काहे तजा ?॥

"सरवन! सरवन!" ररि मुई माता काँवरि लागि ।
तुम्ह बिनु पानि न पावैं, दसरथ लावै आगि ॥4॥

लेइ सो सँदेश बिहंगम चला । उठी आगि सगरौं सिंगला ॥
बिरह-बजागि बीच को ठेघा ?। धूम सो उठा साम भए मेघा ॥
भरिगा गगन लूक अस छूटे । होइ सब नखत आइ भुइँ टूटे ॥
जहँ जहँ भूमि जरी भा रेहू । बिरह के दाघ भई जनु खेहू ॥
राहु केतु, जब लंका जारी । चिनगो उडी चाँद महँ परी ॥
जाइ बिहंगम समुद डफारा । जरे मच्छ पानी भा खारा ॥
दाधे बन बीहड, जड, सीपा । जाइ निअर भा सिंघलदीपा ॥

समुद तीर एक तरिवर, जाइ बैठ तेहि रूख ।
जौ लगि कहा सदेस नहि, नहिं पियास, नहिं भूख ॥5॥

रतनसेन बन करत अहेरा । कीन्ह ओही तरिवर-तर फेरा ॥
सीतल बिरिछ समुद के तीरा । अति उतंग ओ छाँह गँभीरा ॥
तुरय बाँधि कै बैठ अकेला । साथी और करहिं सब खेला ॥
देखत फिरै सो तरिवर-साखा । लाग सुनै पंखिन्ह कै भाखा ॥
पंखिन महँ सो बिहंगम अहा । नागमती जासौं दुख कहा ॥
पूछहिं सबै बिहंगम नामा । अहौ मीत! काहै तुम सामा ?॥
कहेसि "मीत! मासक दुइ भए । जंबूदीप तहाँ हम गए ॥

नगर एक हम देखा, गढ चितउर ओहि नाँव ।
सो दुख कहौं कहाँ लगि, हम दाढे तेहिं ठावँ ॥6॥

जोगी होइ निसरा सो राजा । सून नगर जानहु धुंध बाजा ॥
नागमती है ताकरि रानी । जरी बिरह, भइ कोइल-बानी ॥
अब लगि जरि भइ होइहि छारा । कही न जाइ बिरह कै झारा ॥
हिया फाट वहव जबहिं कूकी । परै आँसु सब होइ होइ लूकी ॥
चहूँ खंड छिटकी वह आगी । धरती जरति गगन कहँ लागी ॥
बिरह-दवा को जरत बुझावा ?। जेहि लागै सो सौंहैं धावा ॥
हौं पुनि तहाँ सो दाढै लागा । तन भा साम, जीउ लेइ भागा ॥

का तुम हँसहु गरब कै, करहु समुद महँ केलि ।
मति ओहि बिरहा बस परै, दहै अगिनि जो मेलि"॥7॥

सुनि चितउर-राजा मन गुना । बिदि-सँदेस मैं कासौं सुना ॥
को तरिवरि पर पंखि-बेखा । नागमति कर कहै सँदेसा ?॥
को तुँ मीत मन-चित्त-बसेरु । देव कि दानव पवन पखेरू ?॥
ब्रह्म बिस्नु बाचा है तोही । सो निज बात कहै तू मोही ॥
कहाँ सो नागमती तैं देखी ।कहेसि बिरह जस मनहिं बिसेखी ॥
हौं सोई राजा भा जोगी । जेहि कारन वह ऐसि बियोगी ॥
जस तूँ पंखि महूँ दिन भरौं । चाहौं कबहि जाइ उडि परौं ॥

पंखि! आँखि तेहि मारग लागी सदा रहाहिं ।
कोइ न सँदेसी आवहिं, तेहि क सँदेश कहाँहिं ॥8॥

पूछसि कहा सँदेस-बियोगू । जोगी भए न जानसि भोगू ॥
दहिने संख न सिंगी पूरै । बाएँ पूरि राति दिन झूरै ॥
तेलि बैल जस बावँ फिराई । परा भँवर महँ सो न तिराई ॥
तुरय, नाव, दहिने रथ हाँका । बाएँ फिरै कोहाँर क चाका ॥
तोहिं अस नाहीं पंखि भुलाना । उडे सो आव जगत महँ जाना ॥
एक दीप का आएउँ तोरे । सब संसार पाँय-तर मोरे ॥
दहिने फिरै सो अस उजियारा । जस जग चाँद सुरुज मनियारा ॥

मुहमद बाईं दिसि तजा, एक स्रवन, एक आँखि ।
जब तें दाहिन होइ मिला बोल पपीहा पाँखि ॥9॥

हौं धुव अचल सौं दाहिनि लावा । फिर सुमरु चितुउर-गढ आवा ॥
देखेउँ तोरे मँदिर घमोई । मातु तोहि आँधरि भइ रोई ॥
जस सरवन बिनु अंधी अंधा । तस ररि मुई, तोहि चित बँधा ॥
कहेसि मरौं, को काँवरि लेइ ?। पूत नाहिं, पानी को तेई ?॥
गई पियास लागि तेहि साथा । पानि दीन्ह दशरथ के हाथा ॥
पानि न पिये, आगि पै चाहा । तोहि अस सुत जनमे अस लाहा ॥
होइ भगीरथ करु तहँ फेरा । जाहि सवार, मरन कै बेरा ॥

तू सपूत माता कर , अस परदेस न लेहि ।
अब ताईं मुइ होइहि, मुए जाइ गति तेहि ॥10॥

नागमति दुख बिरह अपारा । धरती सरग जरै तेहि झारा ॥
नगर कोट घर बाहर सूना । नौजि होइ घर पुरुष-बिहूना ॥
तू काँवरू परा बस टोना । भूला जोग, छरा तोहि लोना ॥
वह तोहि कारन मरि भइ छारा । रही नाग होइ पवन अधारा ॥
कहुँ बोलहि `मो कहँ लेइ खाहू'। माँसु न, काया रचै जो काहू ॥
बिरह मयूर, नाग वह नारी । तू मजार करु बेगि गोहारी ॥
माँसु गिरा, पाँजर होइ परी । जोगी ! अबहुँ पहुँचु लेइ जरी ॥

देखि बिरह-दुख ताकर मैं सो तजा बनवास ।
आएउँ भागि समुद्रतट तबहुँ न छाडै पास ॥11॥

अस परजरा बिरह कर गठा । मेघ साम भए धूम जो उठा ॥
दाढा राहु, केतु गा दाधा । सूरज जरा, चाँद जरि आधा ॥
औ सब नखत तराईं जरहीं । टूटहिं लूक धरति महँ परहीं ॥
जरै सो धरती ठावहिं ठाऊँ । दहकि पलास जरै तेहि दाऊ ॥
बिरह-साँस तस निकसै झारा । दहि दहि परबत होहिं अँगारा ॥
भँवर पतंग जरैं औ नागा । कोइल, भुजइल, डोमा कागा ॥
बन-पंखी सब जिउ लेइ उडे । जल महँ मच्छ दुखी होइ बुडे ॥

महूँ जरत तहँ निकसा, समुद बुझाएउँ आइ ।
समुद, पान जरि खार भा, धुँआ रहा जग छाइ ॥12॥

राजै कहा, रे सरग सँदेसी । उतरि आउ, मोहिं मिलु, रे बिदसी ॥
पाय टेकि तोहि लायौं हियरे । प्रेम-सँदेस कहहु होइ नियरे ॥
कहा बिहंगम जो बनवासी । "कित गिरही तें होइ उदासी ?॥
"जेहि तरवर-तर तुम अस कोऊ । कोकिल काग बराबर दोऊ ॥
"धरती महँ विष-चारा परा । हारिल जानि भूमि परिहरा ॥
"फिरौं बियोगी डारहि डारा । करौं चलै कहँ पंख सँवारा ॥
"जियै क घरी घटति निति जाहीं । साँझहिं जीउ रहै, दिन नाहीं ॥

जौ लहि फिरौं मुकुत होइ परौं न पींजर माँह ।
जाउ बेगि थल आपने, है जेहि बीच निबाह"" ॥13॥

कहि संदेस बिहंगम चला । आगि लागि सगरौं सिघला ॥
घरी एक राजा गोहराबा । भा अलोप, पुनि दिस्टि न आवा ॥
पंखी नावँ न देखा पाँखा । राजा होइ फिरा कै साँखा ॥
जस हैरत वह पंखि हेराना । दिन एक हमहूँ करब पयाना ॥
जौ लगि प्रान पिंड एक ठाऊँ । एक बार चितउर गढ जाऊँ ॥
आवा भँवर मंदिर महँ केवा । जीउ साथ लेइ गएउ परेवा ॥
तन सिंघल, मन चितउर बसा । जिउ बिसँभर नागिनि जिमि डसा ॥

जेति नारि हँसि पूछहिं अमिय-बचन जिउ-तंत ।
रस उतरा, बिष चढि रहा, ना ओहि तंत न मंत ॥14॥

बरिस एक तेहि सिंगल भएऊ । भौग बिलास करत दिन गयऊ ॥
भा उदास जौ सुना सँदेसू । सँवरि चला मन चितउर देसू ॥
कँवल उदास जो देखा भँवरा । थिर न रहै अब मालति सँवरा ॥
जोगी, भवरा, पवन परावा । कित सो रहै जो चित्त उठावा ?॥
जौं पै काढ देइ जिउ कोई । जोगी भँवर न आपन होई ॥
तजा कवल मालति हिय घाली । अब कित थिर आछै अलि , आली ॥
गंध्रबसेन आव सुनि बारा । कस जिउ भएउ उदास तुम्हारा ?॥

मैं तुम्हही जिउ लावा, दीन्ह नैन महँ बास ।
जौ तुम होहु उदास तौ यह काकर कबिलास ? ॥15॥


(1) कारन कै = करुणा करके (अवध) तब हुँत = तब से । टेक = ऊपर लेता है ।

(2) बीरा = भाई । भिउँ = भीम । अँगवै = अंग पर सहे । चाहा = खबर । पाँवरि = जूती ।

(3) घर = अपने घर में ही । घरनि = घर वाली, गृहिणी । रावट = महल । लंक =जलती हुई लंका । चाहनहारी = देखनेवाली ।

(4) खंभ = सहारा । बराहीं जलते हैं । सरवन = `श्रमणकुमार' जिसकी कथा उत्तरापथ में घर घर प्रसिद्ध है । काँवरि = बाँस के डंडे के दोनों छोरों पर बँधे हुए झाबे, जिनमे तीर्थयात्री लोग गंगाजल आदि लेकर चला करते हैं । (सरवन अपने माता = पिता को काँवरि में बैठाकर ढोया करते थे )। ठेघा = टिका, ठहरा । डफारा = चिल्लाया ।

(7) धुँध बाजा = धुंध या अंधकार छाया । बानी = वर्ण की । भइ होइहि = हुई होगी । झार = ज्वाला । लूकी = लुक । दवा = दावाग्नि ।

(8) बसेरू = वसनेवाला । दिन भरौं = दिन बिताता हूँ । महूँ = मैं भी ।

(9) दहिने संख = दक्षिणावर्त शंख नहीं फूँकता । झूरै = सूखता है । तिराई = पानी के ऊपर आता है । तोहिं अस...भुलाना = पक्षी तेरे ऐसा नहीं भूले हैं, वे जानते हैं कि हम उडने के लिए इस संसार में आए हैं । मनियार = रौनक, चमकता हुआ । मुहमद बाँई...आँखि = मुम्मद कवि ने बाईं ओर आँख और कान करना छोड दिया (जायसी काने थे भी) अर्थात् वाम मार्ग छोडकर दक्षिण मार्ग का अनुसरण किया । बोल = कहलाता है ।

(10) दाहिन लावा = प्रदक्षिणा की । घमोई = सत्यानासी या भँडभाँढ नामक कंटीला पौधा जो खंडहरों या उजडे मकानों में प्रायः उगता है । सबार = जल्दी ।

(11) नौजि = न, ईश्वर न करे (अवध) । काँवरू =कामरूप में जो जादू के लिये प्रसिद्ध है । लोना = लोना चमारी जो जादू में एक थी । मजार = बिल्ली । जरी = जडी-बूटी ।

(12) परजरा = प्रज्वलित हुआ, जला । गठा = गट्ठा, ढेर । दाऊँ = दवाग्नि । भुजइल = भुजंगा नाम का काला पक्षी । डोमा कागा = बडा कौवा जो सर्वांग काला होता है । सरग सँदेसी = स्वर्ग से (ऊपर से) सँदेसा कहनेवाला । गिरही = गृह । हारिल...परिहरा = कहते हैं, हारिल भूमि पर पैर नहीं रखता; चंगुल में सदा लकडी लिए रहता है जिससे पैर भूमि पर पैर न पडे । चलै कहँ = चलने के लिए ।

(14) गोहरावा = पुकारा । साँखा =शंका, चिंता । पिंड = शरीर । मंदिर महँ केवा = कमल (पद्मावती) के घर में । बिसँभर = बेसँभाल, सुध-बुध भूला हुआ । जेति नारि = जितनी स्त्रियाँ हैं सब जिउ तंत = जी की बात (तत्त्व) ।

(15) परावा = पराए, अपने नहीं । चित्त उठावा = जाने का संकल्प या विचार किया । हिय घाली = हृदय में लाकर ।

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on FANDOM

Random Wiki