Fandom

Hindi Literature

निऊँ कह रही धौली गाय / हरियाणवी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































मोटा पाठ[[[कड़ी शीर्षक]

चित्र:शीर्षकमीडिया:उदाहरण.ogg Edit

]]
[[[कड़ी शीर्षक]

चित्र:शीर्षक[[मीडिया:पार्स नहीं कर पायें (लेक्सींग समस्या): उदाहरण.ogg --~~~~अप्रारूपित सामग्री यहाँ डालें ---- ]] Edit

]]== शीर्षक == साँचा:KKLokGeetBhaashaSoochi

निऊँ कह रही धौली गाय, मेरी कोई सुनता नईं ।

मेरे कित गए सिरी भगवान, मैं दुख पाय रई ।

मेरा दूध पीवे संसार, घी से खायँ खिचड़ी,

मेरे पूत कमावें नाज मैंघे भा की रूई ।

मेरी दहीए सुखी संसार, जब भी मेरे गल पै छुरी!


भावार्थ

--'यूँ कह रही है सफ़ेद गाय, मेरी बात कोई नहीं सुनता । मेरा भगवान कहाँ चला गया है ? मैं यहाँ दुख पा

रही हूँ । यह सारी दुनिया मेरा दूध पीती है । मेरे दूध से बने घी को खिचड़ी में डाल कर खाती है । मेरे पुत्र (मेरे

बछड़े ) ही तो अनाज पैदा करते हैं । उन्हीं के परिश्रम से महंगे भाव में बिकने वाली रुई भी उगती है । मेरे दूध

से ही दही बनाकर खाता है यह संसार और सुखी रहता है । इसके बावजूद भी जब मैं बूढ़ी हो जाती हूँ तो छुरी मेरे

ही गले पर चलती है ।'

Also on Fandom

Random Wiki