Fandom

Hindi Literature

निगाहों दिल का अफसाना / आनंद नारायण मुल्ला

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

लेखक: आनंद नारायण मुल्ला

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*

निगाहों दिल का अफ़साना करीबे इख्तिताम आया ।

हमें अब इससे क्या आया शहर या वक्तेशाम आया ।।


ज़बाने इश्क़ पर एक चीख़ बनकर तेरा नाम आया,

ख़िरद की मंजिलें तय हो चुकी दिल का मुकाम आया ।


न जाने कितनी शम्मे गुल हुई कितने बुझे तारे,

तब एक खुर्शीद इतराता हुआ बालाये बाम आया ।


इसे आँसू न कह एक याद अय्यामें गुलिश्ताँ है,

मेरी उम्रे खाँ को उम्रे रफ़्ता का सलाम आया ।


बेरहमन आबे गंगा शैख कौशर ले उड़ा उससे,

तेरे होठों को जब छूता हुआ मुल्ला का जाम आया |

Also on Fandom

Random Wiki