Fandom

Hindi Literature

निराला के प्रति / शमशेर बहादुर सिंह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

भूलकर जब राह- जब-जब राह...भटका मैं

तुम्हीं झलके, हे महाकवि,

सघन तम की आंख बन मेरे लिए,

अकल क्रोधित प्रकृति का विश्वास बन मेरे लिये-

जगत के उन्माद का

परिचय लिए,-

और आगत-प्राण का संचय लिए, झलके प्रमन तुम,

हे महाकवि! सहजतम लघु एक जीवन में

अखिल का परिणय लिए-

प्राणमय संचार करते शक्ति औ' छवि के मिलन का हास मंगलमय;

मधुर आठों याम

विसुध खुलते

कंठस्वर में तुम्हारे, कवि,

एक ऋतुओं के विहंसते सूर्य!

काल में (तम घोर)-

बरसाते प्रवाहित रस अथोर अथाह!

छू, किया करते

आधुनिकतम दाह मानव का

साधना स्वर से

शांत-शीतलतम ।


हां, तुम्हीं हो, एक मेरे कवि :

जानता क्या मैं-

हृदय में भरकर तुम्हारी सांस-

किस तरह गाता,

(ओ विभूति परंपरा की!)

समझ भी पाता तुम्हें यदि मैं कि जितना चाहता हूं,

महाकवि मेरे !


(1939 में विरचित,'कुछ कविताएं' नामक कविता-संग्रह से)

Also on Fandom

Random Wiki