Fandom

Hindi Literature

नींद की कविता / मंगलेश डबराल

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


नींद की अहमियत इस बात से ज़ाहिर है कि उसके बिना हम अपने

को जागा हुआ नहीं कह सकते । नींद का वर्णन करने के लिए पहाड़

समुद्र जंगल और रेगिस्तान जैसी चीज़ों का इस्तेमाल किया जाता है

पर तब भी नींद के रहस्य नहीं खुलते । आसानी के लिए हम कह

सकते हैं कि जहाँ कहीं छायाएँ दिखती हैं वे नींद की छायाएँ हैं । हमारी

अपनी छाया हमारी नींद के अलावा कुछ नहीं है ।


भूख से परेशान लोग अक्सर नींद से काम चलाते हैं । कोई अपने घोड़े

दौड़ाता हुआ उनके पास से गुज़र जाता है तब भी वे नहीं उठते । दूसरी

ओर कुछ लोग अनिद्रा की शिकायत करते नज़र आते हैं । नींद की

गोलियाँ उनके पेट में खिलखिलाती हैं। वे हमेशा दूसरों की नींद तोड़ने

की कोशिश में लगे रहते हैं । वह कहानी सभी को मालूम होगी कि

किस तरह एक सम्राट ने एक भूखे आदमी की नींद ख़राब करने के

लिए उसे अपने मख़मल के बिस्तर पर सुला दिया था ।


आधी रात किसी आहट से चौंककर हम उठ बैठते हैं । चारों ओर देखते

हैं । अंधेरा एक प्राचीन मुखौटे की तरह दिखता है । कोई है जो बार बार

हमारी नींद तोड़ता है । कोई सपना या कोई यथार्थ । शायद दंतकथाओं

से निकला हुआ कोई सम्राट । शायद दुनिया को बार बार ख़रीदता और

बेचता हुआ कोई आदमी जिसे नींद नहीं आती ।


(1990)

Also on Fandom

Random Wiki