Fandom

Hindi Literature

नीके रहियौ जसुमति मैया / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग सारंग


नीके रहियौ जसुमति मैया।

आवहिंगे दिन चारि पांच में हम हलधर दोउ भैया॥

जा दिन तें हम तुम तें बिछुरै, कह्यौ न कोउ `कन्हैया'।

कबहुं प्रात न कियौ कलेवा, सांझ न पीन्हीं पैया॥

वंशी बैत विषान दैखियौ द्वार अबेर सबेरो।

लै जिनि जाइ चुराइ राधिका कछुक खिलौना मेरो॥

कहियौ जाइ नंद बाबा सों, बहुत निठुर मन कीन्हौं।

सूरदास, पहुंचाइ मधुपुरी बहुरि न सोधौ लीन्हौं॥


भावार्थ :- `कह्यौ न कोउ कन्हैया' यहां मथुरा में तो सब लोग कृष्ण और यदुराज के नाम से पुकारते है, मेरा प्यार का `कन्हैया' नाम कोई नहीं लेता। `लै जिनि जाइ चुराइ राधिका' राधिका के प्रति 12 बर्ष के कुमार कृष्ण का निर्मल प्रेम था,यह इस पंक्ति से स्पष्ट हो जाता है।राधा कहीं मेरा खिलौना न चुरा ले जाय, कैसी बालको-चित सरलोक्ति है।


शब्दार्थ :- नीके रहियौ = कोई चिम्ता न करना। न पीन्हीं पैया = ताजे दूध की धार पीने को नहीं मिली। बिषान = सींग, (बजाने का)। अबेर सबेरी = समय-असमय, बीच-बीच में जब अवसर मिले। सोधौ =खबर भी।

Also on Fandom

Random Wiki