Fandom

Hindi Literature

नैकु रहौ, माखन द्यौं तुम कौं / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


राग बिलावल


नैकु रहौ, माखन द्यौं तुम कौं ।
ठाढ़ी मथति जननि आतुर, लौनी नंद-सुवन कौं ॥
मैं बलि जाउँ स्याम-घन-सुंदर, भूख लगी तुम्हैं भारी ।
बात कहूँ की बूझति स्यामहि, फेर करत महतारी ॥
कहत बात हरि कछू न समुझत, झूठहिं भरत हुँकारी ।
सूरदास प्रभुके गुन तुरतहिं, बिसरि गई नँद-नारी ॥


श्रीनन्दनन्दन को मक्खन देने के लिये माता खड़ी होकर बड़ी शीघ्रता से दही मथ रही हैं ।(वे कहती हैं-) `लाल! तनिक रुको । मैं तुम्हें अभी मक्खन देती हूँ । नवजलधर-सुन्दर श्याम ! मैं तुम पर बलिहारी जाऊँ, तुम्हें बहुत अधिक भूख लगी है?' इस प्रकार इधर-उधर की बात श्यामसुन्दर से पूछ-पूछकर माता उन्हें बहला रही हैं । माता क्या बात कहती है, यह तो मोहन कुछ समझते नहीं, झूठ-मुठ `हाँ-हाँ' करते जा रहे हैं।(उनकी इस लीला से) श्रीनन्दरानी सूरदास के स्वामी के गुण (उनकी अपार महिमा) तत्काल भूल गयीं (और वात्सल्य-स्नेह में मग्न हो गयीं) ।

Also on Fandom

Random Wiki