Fandom

Hindi Literature

पद्मावती-नागमती-बिलाप-खंड / मलिक मोहम्मद जायसी

१२,२६२pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share
http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

मुखपृष्ठ: पद्मावत / मलिक मोहम्मद जायसी

पदमावति बिनु कंत दुहेली । बिनु जल कँवल सूखी जस बेसी ॥
गाढी प्रीति सो मोसौं लाए । दिल्ली कंत निचिंत होइ छाए
सो दिल्ली अस निबहुर देसू । कोइ न बहुरा कहै सँदेसू ॥
जो गवनै सो तहाँ कर होई । जो आवै किछु जान न सोई ॥
अगम पंथ पिय तहाँ सिधावा । जो रे गएउ सो बहुरि न आवा ॥
कुवाँ धार जल जैस बिछौवा । डोल भरे नैनन्ह धनि रोवा ॥
लेजुरि भई नाह बिनु तोहीं । कुवाँ परी, धरि काढसि मोहीं ॥

नैन डोल भरि ढार, हिये न आगि बुझाइ ।
घरी घरी जिउ आवै, घरी घरी जिउ जाइ ॥1॥

नीर गँभीर कहाँ, हो पिया । तुम्ह बिनु फाटै सरवर-हीया ॥
गएहु हेराइ, परेहु केहि हाथा ?। चलत सरोवर लीन्ह न साथा ॥
चरत जो पंखि केलि कै नीरा । नीर घटे कोई-आव न तीरा ॥
कँवल सूख, पखुरी बेहरानी । गलि गलि कै मिलि छार हेरानी ॥
बिरह-रेत कंचन तन लावा । चून चून कै खेह मेरावा ॥
कनक जो कन कन होइ बेहराई । पिय कहँ ?छार समेटै आई ॥
बिरह पवन वह छार सरीरू । छारहि आनि मेरावहु नीरू ॥

अबहुँ जियावहु कै मया, बिंथुरी छार समेट ।
नइ काया, अवतार नव होइ तुम्हारे भेंट ॥2॥

नैन-सीप मोती भरि आँसू । टुटि टुटि परहिं करहिं तन नासू ॥
पदिक पदारथ पदमिनि नारी । पिय बिनु भइ कौडी बर बारी ॥
सँग लेइ गएउ रतन सब जोती । कंचन-कया काँच कै पोती ॥
बूडति हौं दुख-दगध गँभीरा । तुम बिनु, कंत !लाव को तीरा ?॥
हिये बिरह होइ चढा पहारू । चल जोबन सहि सकै न भारू ॥
जल महँ अगिनि सो जान बिछूना । पाहन जरहिं, होहिं सब चूना ॥
कौनै जतन, कंत ! तुम्ह पावौं । आजु आगि हौं जरत बुझावौं ॥

कौन खंड हौं हेरौं, कहाँ बँधे हौं, नाह ।
हेरे कतहुँ न पावौं, बसै तु हिरदय माहँ ॥3॥

नागमतिहि `पिय पिय' रट लागी । निसि दिन तपै मच्छ जिमि आगी ॥
भँवर, भुजंग कहाँ, हो पिया । हम ठेघा तुम कान न किया ॥
भूलि न जाहि कवल के पाहाँ । बाँधत बिलँब न लागै नाहा ॥
कहाँ सो सूर पास हौं जाऊँ । बाँधा भँवर छोरि कै लाऊँ ॥
कहाँ जाउ को कहै सँदेसा ? ।जाउँ सो तहँ जोगिनि के भेसा ॥
फारि पटोरहि पहिरौं कंथा । जौ मोहिं कोउ देखावै पंथा ॥
वह पंथ पलकन्ह जाइ बोहारौं । सीस चरन कै तहाँ सिधारौं ॥

को गुरु अगुवा होइ, सखि ! मोहि लावै पथ माँह ।
तम मन धन बलि बलि करौं जो रे मिलावै नाह ॥4॥

कै कै कारन रोवै बाला । जनु टूटहिं मोतिन्ह कि माला ॥
रोवति भई, न साँस सँभारा । नैन चुवहिं जस ओरति-धारा ॥
जाकर रतन परै पर हाथा । सो अनाथ किमि जीवै, नाथा ! ॥
पाँच रतन ओहि रतनहि लागे । बेगि आउ, पिय रतन सभागे ! ॥
रही न जोति नैन भए खीने । स्रवन न सुनौ, बैन तुम लीने ॥
रसनहिं रस नहिं एकौ भावा । नासिक और बास नहिं आवा ॥
तचि तचि तुम्ह बिनु अँग मोहि लागे । पाँचौ दगधि बिरह अब जागे ॥

बिरह सो जारि भसम कै चहै, चहै उडावा खेह ।
आइ जो धनि पिय मेरवै, करि सो देइ नइ देह ॥5॥

पिय बिनु व्याकुल बिलपै नागा । बिरहा-तपनि साम भए कागा ॥
पवन पानि कहँ सीतल पीऊ ? । जेहि देखे पलुहै तन जीऊ ॥
कहँ सो बास मलयगिरि नाहा । जेहि कल परति देत गल बाहाँ॥
पदमिनि ठगिनि भई कित साथा । जेहिं तें रतन परा पर-हाथा ॥
होइ बसंत आवहु पिय केसरि । देखे फिर फूलै नागेसरि ॥
तुम्ह बिनु, नाह ! रहै हिय तचा । अब नहिं बिरह-गरुड सौ बचा ॥
अब अँधियार परा, मसि लागी । तुम्ह बिनु कौन बुझावै आगी ?॥

नैन ,स्रवन, रस रसना सबै खीन भए, नाह ।
कौन सो दिन जेहि भेंटि कै, आइ करै सुख-छाँह ॥6॥


(1)निबहुर = जहाँ से कोई न लौटे । लेजुरि = रस्सी, डोरी ।

(2) बह = बहता है, उडा उडा फिरता है । छारहि....नीरू = तुम जल होकर धूल के कणों को मिलाकर फीर शरीर दो ।

(3) पोती = गुरिया । चल =चंचल, अस्थिर । बीछुना = बिछोह । जल महँ....बिछूना = वियोग को जल में की आग समझो, जिससे पत्थर के टुकडे पिघल कर चूना हो जाते हैं ( चूने के कडे टुकडों पर पानी पडते ही वे गरम होकर गल जाते हैं )।

(4) आगी = आग में । ठेघा = सहारा या आश्रय लिया । सूर = भौंरे का प्रतिद्वंद्वी सूर्य । बोहारों = झाडू लगाऊँ । सीस चरन कै = सिर को पैर बनाकर अर्थात् सिर के बल चलकर ।

(5) कारण = कारुण्य, करुणा, विलाप ओरति = ओलती । पाँच रतन = पाँचों इंद्रियाँ । ओहि रतनहि लागे = उस रत्नसेन की ओर लगे हैं । तचि तचि =जल जलकर, तपते से । पाँचौ = पाँचौ इंद्रियाँ ।

(6) नागा = नागमती । गरुड = गरूड जो नाग (यहाँ नागमती) का शत्रु है ।

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on Fandom

Random Wiki