Fandom

Hindi Literature

पर्वत पर आग जला... / ठाकुरप्रसाद सिंह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

पर्वत पर आग जला बासन्ती रात में

नाच रहे हैं हम-तुम हाथ दिए हाथ में


धन मत दो, जन मत दो

ले लो सब ले लो

आओ रे लाज भरे

खेलो सब खेलो

होठों पर वंशी हो, हवा हँसे झर-झर

पास भरा पानी हो, हाथों में मादर


फिर बोलो क्या रखा

दुनिया की बात में ?

हाथ दिए हाथ में

Also on Fandom

Random Wiki