Fandom

Hindi Literature

पलना स्याम झुलावती जननी / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग कान्हरौ

पलना स्याम झुलावती जननी।
अति अनुराग पुरस्सर गावति, प्रफुलित मगन होति नँद-घरनी ॥
उमँगि-उमँगि प्रभु भुजा पसारत, हरषि जसोमति अंकम भरनी ।
सूरदास प्रभु मुदित जसोदा, पुरन भई पुरातन करनी ॥


माता श्यामसुन्दर को पलने में झुला रही हैं । अत्यन्त प्रेमवश वे नन्दपत्नी गाती जाती हैं, वे आनन्द से प्रफुल्लित हैं, मन-ही-मन प्रसन्न हो रही हैं । बार-बार उल्लसित होकर प्रभु भुजाएँ फैलाते हैं और श्रीयशोदा जी हर्षित होकर उन्हें गोद में उठा लेती हैं । सूरदास जी कहते हैं--श्रीयशोदा जी आनन्दित हो रही हैं । उनके पूर्वकृत पुण्यफल पूर्णतः सफल हो गये हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki