Fandom

Hindi Literature

पात झरे, फिर-फिर होंगे हरे / ठाकुरप्रसाद सिंह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

पात झरे, फिर-फिर होंगे हरे


साखू की डाल पर उदासे मन

उन्मन का क्या होगा

पात-पात पर अंकित चुम्बन

चुम्बन का क्या होगा

मन-मन पर डाल दिए बन्धन

बन्धन का क्या होगा

पात झरे, गलियों-गलियों बिखरे


कोयलें उदास मगर फिर-फिर वे गाएंगी

नए-नए चिन्हों से राहें भर जाएंगी

खुलने दो कलियों की ठिठुरी ये मुट्ठियाँ

माथे पर नई-नई सुबहें मुस्काएंगी


गगन-नयन फिर-फिर होंगे भरे

पात झरे, फिर-फिर होंगे हरे

Also on Fandom

Random Wiki