Fandom

Hindi Literature

पौढ़े स्याम जननि गुन गावत / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग कान्हरौ


पौढ़े स्याम जननि गुन गावत ।
आजु गयौ मेरौ गाइ चरावन, कहि-कहि मन हुलसावत ॥
कौन पुन्य-तप तैं मैं पायौ ऐसौ सुंदर बाल ।
हरषि-हरषि कै देति सुरनि कौं सूर सुमन की माल ॥


श्यामसुन्दर सो गये हैं, माता उनका गुणगान करती हैं -`आज मेरा लाल गाय चराने गया है' बार-बार यह कहकर मन-ही-मन उल्लसित होती है । पता नहीं किस पुण्य तथा तप से ऐसा सुन्दर बालक मैंने पाया ।' सूरदास जी कहते हैं, बार-बार हर्षित होकर वे देवताओं को फूलों की माला चढ़ा रही हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki