Fandom

Hindi Literature

प्रेम जिजीविषा का विकास है / रमा द्विवेदी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

प्रेम दिल की पुकार है
हृदय का विस्तार है
स्वप्निल संसार है
रस की फ़ुहार है
तन-मन झूम जाता है
गीत बन जाता है|

प्रेम जिजीविषा का विकास है
जीवन का प्रकाश है
अधरों का उल्लास है
रागात्मकता का विलास है
मन-मयूर नाच उठता है
गीत बन निखरता है|

प्रेम मन का विश्वास है
जीवन की मिठास है
तीखी तकरार है
मीठी मनुहार है
रोम-रोम लहलहाता है
गीत बन जाता है|

शूल कहीं चुभता है
मर्म चीख उठता है
मीत याद आता है
दर्द और भी बढ जाता है
अन्तस गुनगुनाता है
गीत बुन जाता है|

बसन्त रितु का प्रसार
नवयौवना का विरह श्रुंगार
प्रिय का इन्तज़ार
विरहणी की अश्रुधार
दर्द छलक जाता है
गीत बन-संवर जाता है|

Also on Fandom

Random Wiki