Fandom

Hindi Literature

फिर भी क्यों / शमशेर बहादुर सिंह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

फिर भी क्यों मुझको तुम अपने बादल में घेरे लेती हो ?

मैं निगाह बन गया स्वयं

जिसमें तुम आंज गईं अपना सुर्मई सांवलापन हो ।


तुम छोटा-सा हो ताल, घिरा फैलाव, लहर हल्की-सी,

जिसके सीने पर ठहर शाम

कुछ अपना देख रही है उसके अंदर,

वह अंधियाला...


कुछ अपनी सांसों का कमरा,

पहचानी-सी धड़कन का सुख,

-कोई जीवन की आने वाली भूल!


यह कठिन शांति है...यह

गुमराहों का ख़ाब-कबीला ख़ेमा :


जो ग़लत चल रही हैं ऎसी चुपचाप

दो घड़ियों का मिलना है,

-तुम मिला नहीं सकते थे उनको पहले ।


यह पोखर की गहराई

छू आई है आकाश देश की शाम ।


उसके सूखे से घने बाल

है आज ढक रहे मेरा मन औ' पलकें,-

वह सुबह नहीं होने देगी जीवन में !

वह तारों की माया भी छुपा गई अपने अंचल में ।


वह क्षितिज बन गई मेरा स्वयं अजान ।


(रचनाकाल : 1938 )

Also on Fandom

Random Wiki