Fandom

Hindi Literature

फूल हैं हम हाशियों के / यश मालवीय

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

चित्र हमने हैं उकेरे आँधियों में भी दियों के,

हमें अनदेखा करो मत फूल हैं हम हाशियों के ।



करो तो महसूस, भीनी गंध है फैली हमारी,

हैं हमी में छुपे, तुलसी – जायसी, मीरा – बिहारी,

हमें चेहरे छल न सकते धर्म के या जातियों के ।



मंच का अस्तित्व हम से हम भले नेपथ्य में हैं,

माथे की सलवटों सजते ज़िंदगी के कथ्य में हैं,

धूप हैं मन की, हमीं हैं, मेघ नीली बिजलियों के ।



सभ्यता के शिल्प में हैं सरोकारों से सधे हैं,

कोख में कल की पलें हैं डोर से सच की बँधे हैं,

इन्द्रधनु के रंग हैं, हम रंग उड़ती तितलियों के ।


वर्णमाला में सजे हैं क्षर न होंगे अग्नि-अक्षर,

एक हरियाली लिये हम बोलते हैं मौन जल पर,

है सरोवर आँख में, हम स्वप्न तिरती मछलियों के ।

Also on Fandom

Random Wiki