Fandom

Hindi Literature

बंजारे हम / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

जनम ­ जनम के बंजारे हम

बस्ती बाँध न पाएगी ।

अपना डेरा वहीं लगेगा

शाम जहाँ हो जाएगी ।

जो भी हमको मिला राह में

बोल प्यार के बोल दिये ।

कुछ भी नहीं छुपाया दिल में

दरवाजे सब खोल दिये ।

निश्छल रहना बहते जाना

नदी जहाँ तक जाएगी ।

ख्वाब नहीं महलों के देखे

चट्टानों पर सोए हम ।

फिर क्यों कुछ कंकड़ पाने को

रो रो नयन भिगोएँ हम ।

मस्ती अपना हाथ पकड़ कर

मंजिल तक ले जाएगी ।

Also on Fandom

Random Wiki