Fandom

Hindi Literature

बदरिया थम-थमकर झर री ! / माखनलाल चतुर्वेदी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

कवि: माखनलाल चतुर्वेदी

~*~*~*~*~*~*~*~

बदरिया थम-थनकर झर री !

सागर पर मत भरे अभागन

गागर को भर री !


बदरिया थम-थमकर झर री !

एक-एक, दो-दो बूँदों में

बंधा सिन्धु का मेला,

सहस-सहस बन विहंस उठा है

यह बूँदों का रेला।

तू खोने से नहीं बावरी,

पाने से डर री !


बदरिया थम-थमकर झर री!

जग आये घनश्याम देख तो,

देख गगन पर आगी,

तूने बूंद, नींद खितिहर ने

साथ-साथ ही त्यागी।

रही कजलियों की कोमलता

झंझा को बर री !


बदरिया थम-थमकर झर री !

Also on Fandom

Random Wiki