Fandom

Hindi Literature

बल-मोहन दोउ करत बियारी / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग बिहागरौ


बल-मोहन दोउ करत बियारी ।
प्रेम सहित दोउ सुतनि जिंवावति, रोहिनि अरु जसुमति महतारी ॥
दोउ भैया मिलि खात एक सँग, रतन-जटित कंचन की थारी ।
आलस सौं कर कौर उठावत, नैननि नींद झमकि रही भारी ॥
दोउ माता निरखत आलस मुख-छबि पर तन-मन डारतिं बारी ।
बार बार जमुहात सूर-प्रभु, इहि उपमा कबि कहै कहा री ॥


भावार्थ :-- बलराम और श्यामसुन्दर दोनों भाई ब्यालू कर रहे हैं । माता रोहिणी और मैया यशोदा प्रेमपूर्वक दोनों पुत्र को भोजन करा रही हैं । रत्नजटित सोने के थाल में दोनों भाई एक साथ बैठकर भोजन कर रहे हैं । दोनों आलस्यपूर्वक हाथों से ग्रास उठाते हैं, नेत्रों में अत्यन्त गाढ़ी निद्रा छा गयी है । दोनों माताएँ पुत्रों के अलसाये मुख की शोभा देख रही हैं और उस पर अपना तन-मन न्योछावर किये देती हैं । सूरदास के स्वामी बार-बार जम्हाई ले रहे हैं; भला, कोई कवि इस छटा की उपमा किसके साथ देगा ।

Also on Fandom

Random Wiki