Fandom

Hindi Literature

बल मोहन दोऊ अलसाने / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

बल मोहन दोऊ अलसाने ।
कछु कछु खाइ दूध अँचयौ, तब जम्हात जननी जाने ॥
उठहु लाल! कहि मुख पखरायौ, तुम कौं लै पौढ़ाऊँ ।
तुम सोवो मैं तुम्हें सुवाऊँ, कछु मधुरैं सुर गाऊँ ॥
तुरत जाइ पौढ़े दोउ भैया, सोवत आई निंद ।
सूरदास जसुमति सुख पावति पौढ़े बालगोबिन्द ॥

भावार्थ :-- बलराम और श्यामसुन्दर दोनों भाई अलसा गये (आलस्यपूर्ण हो गये) हैं, थोड़ा-थोड़ा भोजन करके उन्होंने दूध पी लिया, तब माता ने देखा कि उन्हें जम्हाई आ रही है (अतः इन्हें अब सुला देना चाहिये) । `लाल उठो !'यह कहकर उनका मुख धुलाया; फिर कहा-` आओ, तुम्हें (पलंग पर) लिटा दूँ; तुम सोओ, मैं कुछ मधुर स्वर से गाकर तुम्हे सुलाऊँ ।' दोनों भाई तुरन्त ही जाकर लेट गये, लेटते ही उन्हें निद्रा आ गयी । सूरदास जी कहते हैं कि बालगोविन्द को सोते देख माता यशोदा आनन्दित हो रही हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki